राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र जिला के कार्यालय

राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केन्द्र (एनआईसी) ई-शासन सेवाओं और डिजिटल इंडिया के विभिन्न पहलुओं के समर्थन के लिए राष्ट्रव्यापी आईसीटी बुनियादी ढांचा प्रदान करता है। विभिन्न ई-शासन पहलों और डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के डिजाइन, विकास और कार्यान्वयन के लिए, 36 राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों में एनआईसी राज्य केंद्र तथा 708 जिला केंद्रों के साथ स्वचालित और ई-शासन प्रक्रियाओं में तेजी लाने के लिए लगातार विभागों के उपयोगकर्ताओं के साथ जुड़ा हुआ है।

एनआईसी की आईसीटी आधारभूत संरचना अर्थात् निकनेट, एनकेएन, लैन, मिनी डाटा सेंटर, वीडियोकॉन्फरेंस स्टूडियो, मैसेजिंग सर्विस, वेबकास्ट सुविधाएं एनआईसी सेवाओं के मुख्य घटक हैं।

एनआईसी जिला केंद्र पूर्वी चंपारण, मोतिहारी  1988 में स्थापित किया गया था। तब से, यह आईसीटी सेवाओं का विस्तार राज्य सूचना विज्ञान अधिकारी के मार्गदर्शन में जिला प्रशासन और विभिन्न केंद्रीय, राज्य और जिला सरकारी कार्यालयों में सूचना विज्ञान संस्कृति को बढ़ावा दे रहा है। आईसीटी बुनियादी ढांचे के जरिए, एनआईसी जिला केंद्र जिले में विभिन्न विभागों के परामर्श से दिन-प्रतिदिन आईसीटी संचालित तकनीकी सहायता के लिए ई-शासन के तहत विभिन्न परियोजनाओं को अंजाम देने और डिजिटल भारत की पहल से विविध भूमिका निभा रहा है।

जिला मजिस्ट्रेट के आदेश पर उनके मार्गदर्शन के तहत नई आईसीटी पहल संबंधित डिजाइन और विकास जिला सूचना विज्ञान अधिकारी (डीआईओ) और अपर जिला सूचना अधिकारी (ए डीआईओ) के तकनीकी सहायता द्वारा की जा रही है।

एनआईसी के समर्थन के साथ जिला प्रशासन पारदर्शी, कुशल और उत्तरदायी प्रशासन को प्राप्त करने में ई-गवर्नेंस और डिजिटल भारत की पहल को कार्यान्वित कर रहा है, आईसीटी के नेतृत्व वाले विकास जैसे- निकनेट और एनकेएन कनेक्टिविटी, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, परियोजनाओं का कार्यान्वयन, क्षमता निर्माण, ईमेल और एसएमएस सेवा, सॉफ्टवेयर विकास सहित जिले में आईसीटी कार्यान्वयन, वीवीआईपी घटनाओं के तकनीकी समर्थन और डीआईटीआई कार्यक्रमों, डिजिटल इंडिया, सीएससी, दिशा, ई-शासन सोसाइटी आदि शामिल हैं।