बंद करे

अशोक स्तंभ, लौरिया अरेराज

दिशा

प्रियदर्शी सम्राट अशोक ने धर्मलेख जो छह ठोस पत्थरो के स्तंभो पर खुदवाया था उसमें से एक पूर्वी चम्पारण जिले के अरेराज लौरिया में 249 (वीसी) में लगाया था जो आज भी सुरक्षित है। इतिहास के अनुसार सम्राट अशोक ने अपने राज्याभिषेक के 26 वर्ष वाद यह धर्मलेख लिखवाया था। यह धर्मलेख स्तंभ 34 टन वजन का है और 36 1/2 फीट ऊँचा है। इस स्तंभ के उपर का सिंह नहीं है जो शायद टूट जाने के कारण कोलकाता संग्रहालय में रखा हुआ है। इस स्तंभ पर 41 पंक्तियों में नागरिकों को मानव धर्म का पालन करने एवं पराचर मैत्री का संदेश है। स्तंभ स्थल को पर्यटन विभाग ने घेराबंदी कर संरक्षित कर दिया है।

फोटो गैलरी

  • अशोक स्तंभ, लौरिया अरेराज
    अशोक स्तंभ, लौरिया अरेराज
  • अशोक स्तंभ, लौरिया अरेराज फोटो
    अशोक स्तंभ, लौरिया अरेराज

कैसे पहुंचें :

बाय एयर

149 किलोमीटर की दूरी पर पटना हवाई अड्डे निकटतम हवाई अड्डा है जो कि भारत के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है।

ट्रेन द्वारा

निकटतम प्रमुख रेलवे स्टेशन मोतिहारी है, जो ३० किलो मीटर दूरी पर है |

सड़क के द्वारा

अरेराज से 3 किलोमीटर दूर लौरिया, बिहार राज्य राजमार्ग 54, पर स्थित है |