बंद करे

गाँधी स्मारक चन्द्रहिया

दिशा

चंद्रहिया बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में एक गांव है। चंद्रहिया का ऐतिहासिक महत्व है. गांधी जी जब 15 अप्रैल 1917 को मोतिहारी पहुंचे तो उसी रात उन्हें पता चला कि जसौली पट्टी में अंग्रेजों ने किसानों पर अत्याचार किया है. गांधी जी किसानों से मिलने हाथी पर सवार होकर निकले जब चंद्रहिया पहुंचे तो अंग्रेज दारोगा ने गांधी जी को चंपारण कलेक्टर डब्ल्यू बी हेकॉक का नोटिस दिया जिसमें कहा गया था कि वो चम्पारण छोड़ दें. गांधी जी ने इसके खिलाफ एसडीएम की अदालत में कानूनी लड़ाई लड़ी और सत्य के आधार पर उनकी जीत हुई और किसान निलहों के अत्याचार से मुक्त हुए.

फोटो गैलरी

  • गांधी मेमोरियल चंद्रहिया
    गांधी मेमोरियल चंद्रहिया
  • गांधी मेमोरियल चंद्रहिया में पार्क
    गांधी मेमोरियल चंद्रहिया में पार्क
  • गांधी जी को उस समय के चंपारण कलेक्टर  डब्ल्यू बी हेकॉक का नोटिस
    गांधी जी को उस समय के चंपारण कलेक्टर डब्ल्यू बी हेकॉक का नोटिस

कैसे पहुंचें :

बाय एयर

पटना हवाई अड्डा, लोक नायक जयप्रकाश हवाई अड्डा (मोतिहारी से 3 घंटे की ड्राइव), शहीद पीर अली खान मार्ग, शेखपुरा के पास, पटना -800014

ट्रेन द्वारा

बापूधाम मोतीहारी रेलवे स्टेशन: 5 किमी लगभग

सड़क के द्वारा

छातौनी बस स्टॉप, एनएच 28 ए, भवानीपुरजिरात, मोतिहारी: 5 किमी लगभग