ई-शासन योजना 2018

वर्ष 2018 में प्रमुख ई-शासन गतिविधियों की योजना बनाई गई है
परियोजना विवरण विभाग
बिहार स्वान 2.0

  • बिहार स्वान 2.0 (बिहार प्रदेश वाइड एरिया नेटवर्क) नवीनतम अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के साथ नए परिचालन मॉडल का प्रस्ताव है। कुल 34 पी0ओ0पी0 स्थापित किये जाएंगे – 1 जिला मुख्यालय में, 27 विकास खण्ड (ब्लाक) मुख्यालय में और 6 सब-डिवीजन मुख्यालयों में। जिला मुख्यालय 34 एमबीपीएस बैंडविड्थ के साथ जुड़ना है और अनुमंडल मुख्यालय और विकास खंड मुख्यालय की सभी साइटें 2 एमबीपीएस बैंडविड्थ से जुड़ना है।
आईटी विभाग, बिहार
निकनेट/राष्ट्रीय ज्ञान नेटवर्क

  • जिला स्तर पर बी-स्वान के साथ निकनेट / एनकेएन का एकीकरण।
  • महात्मा गांधी सेंट्रल यूनिवर्सिटी, मोतीहारी को एनकेएन परियोजना के तहत चालू किया जाना है।
एनआईसी & आईटी विभाग, बिहार
ई परिवहन

  • जिला परिवहन कार्यालय मोतीहारी में ऑनलाइन वेब-आधारित सारथी 4.0 और ई-चालान लागू किया जाना है।
परिवहन
भूमि अभिलेख कम्प्यूटरीकरण / डिजिटल इंडिया भूमि अभिलेख आधुनिकीकरण कार्यक्रम :

  • जिले की सभी 27 अंचलों में ऑनलाइन दाखिल ख़ारिज शुरू करना है।
  • जिले की सभी 27 अंचलों में ऑनलाइन लगान संग्रह शुरू करना है।
  • सभी ऑनलाइन अनुप्रयोगों के सुचारु संचालन के लिए जिला की 27 अंचलों के सर्किल अधिकारी, सर्कल इंस्पेक्टर, डीलिंग सहायक, हलका कर्मचारी और कंप्यूटर ऑपरेटर को प्रशिक्षित करना है।
  • जिले के सदर अंचल में भु-नक्शा शुरू करना है।
राजस्व एवं भूमि सुधार
सार्वजनिक वितरण प्रणाली (ई-पीडीएस)

  • जन वितरण अन्न सिस्टम (आरटीपीएस के साथ एकीकृत) जिले के सभी छह अनुमंडलों में लागू किया जाना है।
  • पीओआईएमएस ऐप लागू किया जाना है : एफपीएस दुकान के निरीक्षण में एसडीएम, डीएसओ, और एमओ को  सुविधा प्रदान करता है ।
खाद्य और उपभोक्ता संरक्षण
जेल ईआरपी / ई-प्रिंजन

  • मोतीहारी सेंट्रल जेल में जेल-ईआरपी लागू किया जाना है।
  • जेल ईआरपी और ई-जेल हाइब्रिड मॉडल में एकीकृत किए जाने हैं।
गृह (जेल)
जिला वेबसाइट

  • एस3डबल्यूएएएस मंच पर जिला वेबसाइट को माइग्रेट करना है।
जिला प्रशासन
बाढ़ राहत

  • जिले की सभी 27 अंचलों में आपदा सैम्पोर्ति को लागू करना – बाढ़ राहत के लिए डीबीटी की सुविधा के लिए एमआईएस सॉफ्टवेयर।
आपदा प्रबंधन